Showing posts with the label बगड़ावत देवनारायण फड़Show all

बगड़ावत देवनारायण फड़ भाग -24

साडू माता को बालक देवनारायण को साथ लेकर मालवा जाना साडू माता सोचती है कि रोज कोई न कोई यहां आता है , कहीं रावजी सेना भेजकर बच्चे को भी न मरवा दे। यह सोचकर वह गोठां छोड़ कर मालवा जाने की तैयारी करती है। और दूसरे ही दिन सा माता अपने विश्वासपात्र भील… Read more

बगड़ावत देवनारायण फड़ भाग -23

ब्राह्मणों और डायन द्वारा बालक देवनारायण को मरवाने की कोशिश उधर रावजी के महलो में अपशगुन होने लगते हैं। रावजी को सपने आने लगते हैं कि तेरा बैर लेने के लिये साडू माता की झोली में नारायण ने जन्म लिया है। वही तेरा सर्वनाश करेगें। रावजी सपना देखकर घबरा जात… Read more

बगड़ावत देवनारायण फड़ भाग -22

देवनारायण जन्म इधर सभी बगड़ावतों का नाश हो जाने पर साडू माता हीरा दासी सहित मालासेरी की डूंगरी पर रह रही होती है। एक दिन अचानक वहाँ पर नापा ग्वाल आता है और सा माता को 7 बीसी राजकुमारों के भी मारे जाने का समाचार देता है और कहता है कि सा माता यहां से मालवा अपन… Read more