मंच संचालन के लिए शायरी – Anchoring Shayari in Hindi

मंच संचालन के लिए शायरी – Anchoring Shayari in Hindi

नमस्कार दोस्तों, यहां पर हमने मंच संचालन के लिए शायरी (Anchoring Shayari in Hindi) शेयर की है। जिसे आप स्कूल, कॉलेज आदि में आयोजित कार्यक्रम में बोल सकते हैं। हम उम्मीद करते हैं आपको यह हिंदी शायरी पसंद आयेंगी।

कव्वाल की शोभा कव्वालियों से होती है,गुलाब की शोभा उसकी लालियो से होती है,
कलाकार की शोभा कलाकारियो से होती है,और दर्शको की शोभा उनकी तालियों से होती है

बिन बूंदो के बारिश का एहसास कैसे होगा,जूनून हो दिल में जिसके वो हताश कैसे होगा,
कार्यक्रम के इस रंग का मिज़ाज़ कैसा है,बिन ताली के हमें यह एहसास कैसे होगा

अपनी कद्रदानी को,इस तरह ना छिपाइए,
अगर प्रस्तुति पसंद आई हो,तो तालियाँ बजाइये

ये नन्हे फुल तब महकते हैं,जब खुदा की नीली छत्रियां तनती हैं
इन नन्हे मुन्हे फरिश्तो क लिए,जोरदार तालियाँ तो बनती हैं

पूजा हो मंदिर में तो थाली भी चाहिए,गुलशन है गुल का तो माली भी चाहिए है,
दिल है दिलवाला तो दिलवाली भी चाहिए,कार्यक्रम है हमारा तो आपकी ताली भी चाहिए

ठीक नहीं कहना मेरा सबसे यह हर बार,करतल ध्वनि हो जाये तो हो जाये उपकार,
बिना कहे बजती रहें हर प्रस्तुति के बाद,तड़-तड़ वाली तालियाँ तब है कोई बात

कार्यक्रम में खुशियों का महोत्सव हो जाएगा,समंदर में लहरों का महोत्सव हो जाएगा,
शोभा आपकी और हमारी दो दूनी चार होगी,जब आपकी तालियों का महोत्सव हो जाएगा

ताली आप बजाओगे, बिखर जायेगा नूर,बज जायेगा ह्रदय में, बच्चों के संतूर
अथक परिश्रम से किया, इनने आज धमाल ये बच्चे हक़दार हैं, ताली हो भरपूर।

इतनी सुंदर प्रस्तुति, इतना सुंदर काम,शाबाशी कर दीजिये, इन बच्चों के नाम
खुलकर दे दो तालियाँ, इन परियों को आज,सबने अपने काम को, ख़ूब दिया अंजाम।

जिव्हा बैठीं सरस्वती, शब्द-शब्द है नूर,मुख्य अतिथि का स्वागतम, दिल से हो भरपूर
भाषण बहुत कमाल था, अनुपम सुने विचार,ख़ूब बजाओ तालीयाँ, ये सच्चे हकदार।

कलाकार ने खींच दी, रेखा इक गम्भीर,सच का करके सामना, नैनन आया नीर
जोरदार हो तालियाँ, शहर भले हिल जाय,इस प्रस्तुति से आज की, बदल गई तस्वीर।

जन-जन की उम्मीद जो, हर मन की जो आस,पुलकित आयोजक हुये, पाकर उनको पास
ह्रदय डुबोकर हर्ष में, मुदित भाव भर नैन,चलो बजाकर तालियाँ, स्वागत कर लें आज।

भ्रमर परागों पर बैठेगें ,धरी रहेगी रखवाली
खुश्बू ख़ुद उड़ने को आतुर,क्या कर लेगा जी माली
हम तो खुशी बांटने आये,खुशी बांटकर जायेंगे
चलो बजा दो सारे मिलकर,एक बार खुलकर ताली।

किसी ने कहा ग़ज़ल सुनाओ,किसी ने कहा गीत सुनाओ
किसी ने कहा इन्हें गवाओ,किसी ने कहा उन्हें बुलाओ
हम तो आपकी हर बात मान रहे,आप भी तो हर प्रस्तुति पर ज़ोरदार तालियाँ बजाओ।

वो आये गये जिनका इंतज़ार था,आओ हम खुशियों के दिये जला लें
आज के मुख्य अतिथि के स्वागत में,सब लोग जोरदार तालियाँ बजा दें।

उम्मीद है पोस्ट आपको पसंद आई हो तो पोस्ट like share और कमेंट जरुर करे और अपने मिलने वालो को अवश्य बताये !

उपर दी गई जानकारी मे अगर यदि आपका कोई भी विचार,सुझाव हो तो कमेंट बॉक्स में जरूर बताइए जिससे हम आपकी मदद कर सकें !

अगर आपको यह आर्टिकल पसंद आया है तो इसे Like और share जरूर करें ! इस आर्टिकल को अंत तक पढ़ने के लिए धन्यवाद



Post a Comment

ऑनलाइन गुरुजी ब्लॉग में आपका स्वागत है
ऑनलाइन गुरुजी,ब्लॉग में आप शैक्षिक सामग्री, पाठ्यपुस्तकों के समाधान के साथ पाठ्यपुस्तकों की पीडीएफ भी डाउनलोड कर सकते हैं। प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए शैक्षिक सामग्री भी यहाँ उपलब्ध कराई जा रही है। यह वेबसाइट अभी प्रगति पर है। भविष्य में और सामग्री जोड़ी जाएगी। कृपया वेबसाइट को नियमित रूप से देखते रहें!

Previous Post Next Post