STARS (Strengthening Teaching-Learning and Results for States):स्टार्स प्रोजेक्ट का मुख्य उद्देश्य

STARS (Strengthening Teaching-Learning and Results for States):स्टार्स प्रोजेक्ट का मुख्य उद्देश्य

STARS का पूर्ण रूप  STARS (Strengthening Teaching-Learning and Results for States) 

सरकार द्वारा इस STARS Yojana को नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति National Education Policy (NEP) के तहत लागू किया जाएगा यहां हम जानेंगे यह कार्यक्रम कैसे काम करेगा, STARS कार्यक्रम के उद्देश्य क्या है और इस कार्यक्रम को किन किन राज्यों मैं लागू किया जाएगा, यहां इसकी पूरी जानकारी पढ़े! 



क्या है STARS प्रोजेक्ट ?

STARS प्रोजेक्ट को शिक्षा मंत्रालय के स्कूल शिक्षा और साक्षरता विभाग के तहत एक नवीन केंद्र प्रायोजित योजना के रूप में लागू किया जाएगा।

स्कूल शिक्षा और साक्षरता विभागके तहत एक स्वतंत्र और स्वायत्त संस्थान के रूप में परख’ (PARAKH) नामक राष्ट्रीय मूल्यांकन केंद्रकी स्थापना।

'परख', ‘नवीन शिक्षा नीति’ (NEP)- 2020 में प्रस्तावित मूल्यांकन सुधारों में से एक है। NEP का एक प्रमुख उद्देश्य सामूहिक रूप से स्कूलों, बोर्डों को हाई-स्टैक की परीक्षाओं से दूर रखना और समग्र मूल्यांकन की ओर ले जाना है।

STARS प्रोजेक्ट का विस्तार :

STARS प्रोजेक्ट 6 राज्यों- हिमाचल प्रदेश, राजस्थान, महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, केरल और ओडिशा को छात्रों के बुनियादी पठन और गणित कौशल को बेहतर बनाने तथा मूल्यांकन सुधारों का समर्थन करेगा।

स्टार्स प्रोजेक्ट का मुख्य उद्देश्य :PM e-Vidya, Foundational Literacy and Numeracy Mission और National Curricular, Pedagogical Framework for Early Childhood Care ओर एजुकेशन के तहत आत्मानिभर भारत अभियान के हिस्से पर ध्यान केंद्रित करना है।

 शिक्षकों की क्षमता विकसित करने

  • स्‍कूल जाने से वंचित बच्‍चों को मुख्‍यधारा में शामिल करना, करियर मार्गदर्शन तथा परामर्श देना और इंटर्नशिप देकर स्‍कूलों में व्‍यवसायिक शिक्षा को सशक्‍त बनाना।
  • शिक्षण-शिक्षण सामग्री और बोर्ड परीक्षाओं को अधिक योग्यता-आधारित बनाना आदि शामिल है।

STARS प्रोजेक्ट के घटक:

STARS प्रोजेक्ट के दो प्रमुख घटक हैं:

राष्ट्रीय स्तर पर हस्तक्षेप: राष्ट्रीय स्तर पर परियोजना में निम्नलिखित हस्तक्षेप की परिकल्पना की गई है जिससे सभी राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों को लाभ होगा:

  •  छात्रों के प्रतिधारण (Retention), संक्रमण (Transition) और पूर्णता (Completion) दर पर ठोस और प्रामाणिक डेटा कैप्चर करने के लिये शिक्षा मंत्रालय (MoE) की 'राष्ट्रीय डेटा प्रणाली' को मज़बूत करना।
  • 'राज्‍य प्रोत्‍साहन अनुदान' (State Incentive Grants- SIG) के माध्‍यम से राज्‍यों के शासन सुधार एजेंडा को प्रोत्‍साहन देकर राज्‍यों के 'परफॉरमेंस ग्रेडिंग इंडेक्स' (PGI) स्कोर में सुधार लाने में शिक्षा मंत्रालय की मदद करना।
  • अधिगम मूल्यांकन प्रणाली के सुदृढ़ीकरण का समर्थन करना।
  • शिक्षा मंत्रालय को 'राष्ट्रीय मूल्यांकन केंद्र' (PARAKH) स्थापित करने में मदद करना।

राज्य स्तर पर परिकल्पना: राज्य स्तर पर STARS प्रोजेक्ट के तहत निम्नलिखित परिकल्पना की गई है:

  • प्रारंभिक बाल्यावस्था देख-रेख और शिक्षा (ECCE) तथा मूलभूत शिक्षा को मज़बूती प्रदान करना।
  • शिक्षण मूल्यांकन/आकलन प्रणालियों में सुधार लाना।
  • शिक्षक विकास और स्कूल नेतृत्व के माध्यम से कक्षा में निर्देश प्रणाली और उपशमन को मज़बूत करना।

STARS प्रोजेक्ट आर्थिक सहायता

NEP 2020 के तहत STARS योजना की नई अवधारणा को केंद्र प्रायोजित योजना के रूप में लागू किया जाएगा। कार्यान्वयन शिक्षा मंत्रालय के स्कूली शिक्षा और साक्षरता विभाग के अधीन होगा। इसमें एक स्वतंत्र और स्वायत्त संस्थान के रूप में एक राष्ट्रीय मूल्यांकन केंद्र की स्थापना शामिल होगी।

STARS प्रोजेक्ट का कार्य क्षेत्र: 

  • समावेशी शिक्षा
  • सीखने के परिवेश का उन्नयन।
  • गुणवत्ता में हस्तक्षेप
  • शिक्षक की शिक्षा
  • पहुँच और प्रतिधारण
  • शिक्षा के अधिकार का अधिकारिता
  • लिंग और इक्विटी
  • एंटाइटेलमेंट/अधिकारिता (वर्दी, पाठ्य-पुस्तकें, छात्रवृत्ति आदि)

प्रोजेक्ट के मापन योग्य परिणाम:

चयनित राज्यों में ग्रेड 3 में  भाषा में न्यूनतम प्रवीणता प्राप्त करने वाले छात्रों में वृद्धि;

  • माध्यमिक विद्यालय तक शिक्षा पूर्ण करने की दर में सुधार;
  • शासन सूचकांक में सुधार;
  • सुदृढ़ अधिगम मूल्यांकन प्रणाली;
  • राज्यों के बीच क्रॉस-लर्निंग की सुविधा के लिये साझेदारी विकसित करना;
  • राज्य स्तरीय सेवा वितरण में सुधार जैसे- प्रमुख शिक्षकों और प्रधानाचार्यों के प्रशिक्षण द्वारा स्कूल प्रबंधन को मज़बूत करना। 

STARS includes Contingency Emergency Response Component (CERC)

STARS परियोजना में राष्ट्रीय घटक के तहत एक आकस्मिक आपातकालीन प्रतिक्रिया घटक (CERC) शामिल है जो इसे किसी भी प्राकृतिक, मानव निर्मित और स्वास्थ्य आपदाओं के लिए अधिक उत्तरदायी बनाने में सक्षम होगा।

यह सरकार को सीखने की हानि के लिए परिस्थितियों का जवाब देने में मदद करेगा जैसे कि स्कूल बंद / बुनियादी ढांचा क्षति, अपर्याप्त सुविधाएं और दूरस्थ शिक्षा की सुविधा के लिए प्रौद्योगिकी का उपयोग करना आदि। सीईआरसी घटक वित्तपोषण के तेजी से पुन: वर्गीकरण और सुव्यवस्थित वित्तपोषण के उपयोग की सुविधा प्रदान करेगा।

STARS प्रोजेक्ट उन परिस्थितियों के जवाब में सरकार की मदद करेगा जो निम्नलिखित स्तिथियों को जन्म देती हैं:

  • स्कूल बंद होने जैसे सीखने की हानि
  • इंफ्रास्ट्रक्चर को नुकसान
  • स्कूल में अपर्याप्त सुविधाएं
  • दूरस्थ शिक्षा की सुविधा के लिए प्रौद्योगिकी का उपयोग

उम्मीद है पोस्ट आपको पसंद आई हो तो पोस्ट like share और कमेंट जरुर करे और अपने मिलने वालो को अवश्य बताये !

उपर दी गई जानकारी मे अगर यदि आपका कोई भी विचार,सुझाव हो तो कमेंट बॉक्स में जरूर बताइए जिससे हम आपकी मदद कर सकें !

अगर आपको यह आर्टिकल पसंद आया है तो इसे Like और share जरूर करें ! इस आर्टिकल को अंत तक पढ़ने के लिए धन्यवाद

Post a Comment

ऑनलाइन गुरुजी ब्लॉग में आपका स्वागत है
ऑनलाइन गुरुजी,ब्लॉग में आप शैक्षिक सामग्री, पाठ्यपुस्तकों के समाधान के साथ पाठ्यपुस्तकों की पीडीएफ भी डाउनलोड कर सकते हैं। प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए शैक्षिक सामग्री भी यहाँ उपलब्ध कराई जा रही है। यह वेबसाइट अभी प्रगति पर है। भविष्य में और सामग्री जोड़ी जाएगी। कृपया वेबसाइट को नियमित रूप से देखते रहें!

Previous Post Next Post