बौद्ध
·        बौद्ध साहित्य की प्रथम भाषा पालि तथा द्वितीय भाषा संस्कृत
·        जातक कथाएं महात्मा बुध के पूर्व जन्मों की कथाओं का संकलन किया गया है
·        त्रिपिटक ग्रंथ : त्रिपिटक बौद्ध ग्रंथ है भाषा पालि बुद्ध की मृत्यु के बाद उनकी शिक्षाओं का संकलन तीन भागों में किया गया
    1.विनय पिटक बुद्ध द्वारा दिए गए नियम व आचार की शिक्षाएं संकलनकर्ता उपालि
    2.सूत पिटक सबसे बड़ा संकलनकर्ता आनंद बौद्ध धर्म का शब्दकोश
    3.अभिधम्म पिटक इसमें बौद्ध धर्म के दार्शनिक सिद्धांत है संकलनकर्ता मोगली पुत्त तिस्स 
·        त्रिपिटको की भाषा पालि
·        सुत्त पिटक विनय पिटक की रचना प्रथम बौद्ध संगति में
·        अभिधम्म  पिटक की रचना तृतीय बौद्ध संगति में
·        बुद्ध चरित्र रचनाकार अश्वघोष सौंदर्य आनंद रचनाकार अश्वघोष
·        अंगुत्तर निकाय में 16 महाजनपदों का उल्लेख मिलता है
·        त्रिपिटक के अतिरिक्त दीप वंश महा वंश और मिलिंद पद्हो बोद्ध ग्रंथ है

जैन ग्रंथ
·        प्राकृत व पालि भाषा मे
·        जैन साहित्य की प्रथम भाषा अर्धमागधी
·        जैन साहित्य को आगम
·        जैन धर्म का प्रारंभिक इतिहास भद्रबाहु द्वारा रचित कल्प सूत्र से मिलता है
·        पुराणों में जैन साहित्य को चरित्त कहा है
·        भगवान महावीर के जीवन कार्यों का विवरण भगवतीसु में मिलता है
·        ललित विस्तार महायान का धर्म ग्रंथ
·        महावस्तु हीनयान से संबंधित ग्रंथ
·        कल्पसूत्र रचनाकार भद्रबाहु भाषा संस्कृत
·        भगवती सूत्र जैनियों का महत्वपूर्ण ग्रंथ जैन धर्म का विकास 16 महाजनपदों के सूची का उल्लेख
·        परिशिष्ट पर्वन रचनाकार हेमचंद्र भाषा प्राकृत
इतिहास की जानकारी के लिए ब्लॉग  पढे  :- https://gurjarithas.blogspot.com
इतिहास से जुड़ी सम्पूर्ण जानकारी के लिएं इस ब्लॉग को FOLLOW जरूर करे...