1.  प्राक इतिहास या प्रागैतिहासिक काल/ पाषाण काल
इस कालक्रम को तीन खंडो में विभक्त किया गया है|  
1.पुरा पाषाण काल              2.मध्य पाषाण काल             3.नव पाषाण काल
      (अज्ञात काल से 8000 ई.पू.तक )            (8000 ई.पू. से 4000 ई.पू. तक)       (4000 ई.पू. से 2500 ई.पू. तक)
2.  आद्य ऐतिहासिक काल
इस कालक्रम को दो खंडो में विभक्त किया गया है|  
1.सिंधु घाटी सभ्यता                            2.वैदिक सभ्यता
          (2500 ई.पू. से 1500 ई.पू. तक)                           (1500 ई.पू. से 600 ई.पू. तक)
                              वैदिक सभ्यता को पुन: खंडो में विभक्त किया गया है|  
                     1. ऋग्वेदिक काल                    2.उत्तर वैदिक काल
                                  (1500 ई.पू. से 1000 ई.पू. तक)                     (1000 ई.पू. से 600 ई.पू. तक)
3.ऐतिहासिक काल
इस कालक्रम को तीन खंडो में विभक्त किया गया है|
1.प्राचीन भारत का इतिहास  2.मध्यकालीन भारत का इतिहास       3.आधुनिक भारत का इतिहास 
(600 ई.पू. से 712 ई. तक)                (712 ई. से 1707 ई. तक)              (1707 ई. से 15 अगस्त 1947 ई. तक)


प्राचीन भारत का इतिहास में प्रमुख साम्राज्य
महाजनप (6 शताब्दी ई.पू. से तक )> मगध साम्राज्य (600 ई.पू. से 300 ई.पू. तक)  > मोर्य साम्राज्य  (323 ई.पू. से 184 ई.पू. तक) संगम काल (चेर,पांड्या,चोल) > मोर्यौतर काल (184 ई.पू. से 313 ई. तक) >गुप्त साम्राज्य (319 ई. से 550 ई. तक)> हर्षवर्धन काल (606 ई. से 647 ई. तक)

मध्यकालीन भारतीय इतिहास पुन: दो भागो में बाँटा गया है|   
       1.पूर्व मध्यकालीन (8वी से 12 वी शताब्दी तक)                              
          उतर भारत :- राजपूत > पाल > गुर्जर प्रतिहार
          दक्कन :- चालुक्य > पल्लव >  राष्ट्रकूट
         दक्षिण भारत :-  चेर पांड्या > चोल > शाही चोल      
      2.उत्तर मध्यकालीन (12वी  से 18वी शताब्दी तक )
   उतर भारत :-  दिल्ली सल्तनत > मुग़ल > चोहान
   दक्कन:-  विजयनगर > बहमनी
   दक्षिण भारत :- चेर >देव गिरी के यादव >वारंगल के काकतीय > होयसोल 
इतिहास की जानकारी के लिए ब्लॉग  पढे  :- https://gurjarithas.blogspot.com
इतिहास से जुड़ी सम्पूर्ण जानकारी के लिएं इस ब्लॉग को FOLLOW जरूर करे...