·         हिस्ट्री (यूनानी ग्रीक) शब्द हिस्टोरिया से बना है जिसका शाब्दिक अर्थ अन्वेषण से प्राप्त ज्ञान
·         इतिहास के जन्मदाता हेरोडोटस यूनान का प्रथम इतिहासकार था हेरोडोटस का संस्कृत नाम हरिदत्त है|
·         सिसरो रोमन दार्शनिक ने सर्वप्रथम हेरोडोटस को इतिहास का जनक या फादर ऑफ हिस्ट्री की संज्ञा दी थी!
·         हेरोडोटस ने अपने इतिहास का विषय पेलोपोनेसियन युद्ध को बनाया! इन की प्रसिद्ध पुस्तक का नाम हिस्टोरिका का है|
इतिहास का विभाजन
इतिहास को तीन भागो में बांटा गया है
1.   प्राक इतिहास या प्रागैतिहासिक काल
·         लिखित इतिहास के पहले कालखंड को प्रागैतिहासिक काल कहा जाता है इसमें लोगों को लिपि या अक्षर का ज्ञान नहीं था यह आदिम लोगों को का इतिहास है जिसे पत्थर व हड्डियों के औजारों तथा गुफा चित्रकारी के आधार पर लिखा गया है
नोट :- पाषाण काल इसी खंड के अंतर्गत आता है|
2.   आद्य ऐतिहासिक काल
·         ऐतिहासिक काल के पहले का समय जब लिपि अक्षर का ज्ञान उन्हें था लेकिन उसे अभी तक पढ़ा नहीं जाता है इसे आद्य ऐतिहासिक काल कहा जाता है|
नोट:- सिंधु घाटी सभ्यतावैदिक काल को इसी कालखंड के अंतर्गत रखा गया है क्योंकि यह लिपि चित्रात्मक एवं प्रतीकात्मक है जिसका अर्थ निकालना कठिन है|
3.   ऐतिहासिक काल
·         इतिहास का वह काल खंड जिसमें लिखित सामग्री प्राप्त होती है उसे पढ़ा जा सकता है ऐतिहासिक काल कहलाता है| भारत में छठी शताब्दी ईसा पूर्व से प्रारंभ होता है|
नोट:- महाजनपद काल से अब तक का कालखंड इसमें शामिल किया जाता है|

नोट:-पुरातत्व के क्षेत्र में महत्वपूर्ण योगदान के लिए कनिघम को भारतीय पुरातत्व का जनक कहा जाता है|
भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण पर्यटन एवं संस्कृति मंत्रालय के अंतर्गत कार्य करता है|

इतिहास की जानकारी के लिए ब्लॉग  पढे  :- https://gurjarithas.blogspot.com
इतिहास से जुड़ी सम्पूर्ण जानकारी के लिएं इस ब्लॉग को FOLLOW जरूर करे...