जब सती ने देवताओं को विमान में बैठकर आसमान में जाते देखा, तो उन्होंने शिवजी से पूछा कि ये सारे देवता कहाँ जा रहे हैं। शिवजी ने बताया कि दक्ष प्रजापति यज्ञ करा रहे हैं और ये देवता वहीं जा रहे हैं। वे शिवजी से बोलीं कि मेरे पिता के घर इतना बड़ा उत्सव है, तो क्या मैं उसे देखने जाऊँ? शिवजी ने कहा कि उन्होंने न्योता नहीं भेजा है। हे सती, दक्ष ने अपनी सब लड़कियों को बुलाया है, केवल तुम्हें ही नहीं बुलाया। शिवजी ने सती से कहा कि बिना बुलाए जाओगी, तो शील-स्नेह और मान-मर्यादा नहीं रहेगी। लेकिन सती मायके के मोह और विधि के विधान से विवश थीं, इसलिए उन्होंने शिवजी की बात नहीं मानी और यज्ञ में चली गईं। उनके पिता दक्ष ने उन्हें देखकर मुँह फेर लिया और हालचाल भी नहीं पूछे। सती को यज्ञ में शिवजी का भाग कहीं दिखाई नहीं दिया। पति का अपमान देखकर सती क्रोधित हो गईं और उन्होंने योगाग्नि में अपना शरीर भस्म कर डाला। सती के मरण के बाद शिवजी के गणों ने यज्ञ का विध्वंस कर दिया।
गुर्जर इतिहास/मारवाड़ी मसाला/रामचरितमानस सार, के लिए ब्लॉग  पढे  :-https://gurjarithas.blogspot.com