2. रामचरित मानस
रामचरित मानस के बारे में यह किंवदंती भी बहुत लोकप्रिय है। वाराणसी के संस्कृत विद्वान और पंडित तुलसीदासजी के रामचरित मानस के कट्टर आलोचक थे। उनका आरोप था कि तुलसीदासजी ने कोई बड़ा काम नहीं किया है। उन्होंने तो बस वाल्मीकिजी की संस्कृत रामायण का अवधी में संक्षिप्त अनुवाद किया है। विद्वानों ने रामचरित मानस को महत्वहीन साबित करने के लिए एक परीक्षा ली। रात को विश्वनाथ मंदिर के गर्भगृह में रामचरित मानस को संस्कृत ग्रंथों के नीचे दबाकर ताला लगा दिया गया। कसौटी यह थी कि अगर रामचरित मानस में सचमुच दम होगा, तो ईश्वर की कृपा से यह ऊपर जाएगा। सुबह जब दरवाज़ा खुला, तो सभी भौंचक्के रह गए, क्योंकि रामचरित मानस सभी ग्रंथों के ऊपर रखा मिला और उस पर सत्यम् शिवम् सुन्दरम् भी लिखा मिला।
गुर्जर इतिहास/मारवाड़ी मसाला/रामचरितमानस सार, के लिए ब्लॉग  पढे  :-https://gurjarithas.blogspot.com