Showing posts from January, 2020Show all

कामदेव हुए भस्म

तारक नाम के असुर ने जब देवताओं को हरा दिया , तो वे ब्रह्माजी के पास जाकर गिड़गिड़ाने लगे। तब ब्रह्माजी ने उपाय बताया कि यह दैत्य शिवजी के वीर्य से उत्पन्न पुत्र से ही मरेगा। यह पता चलने के बाद देवताओं ने विचार किया कि… Read more

शिव-पार्वती विवाह की भूमिका

यज्ञ में प्राणोत्सर्ग के समय सती ने भगवान हरि से यह वर माँगा कि मेरा जन्म - जन्मांतर तक शिवजी के चरणों में अनुराग रहे। इसी कारण शरीर भस्म होने के बाद उनका जन्म हिमाचल के घर पर उमा यानी पार्वती के रूप में हुआ। एक बार नारद… Read more

शिवजी का अपमान

जब सती ने देवताओं को विमान में बैठकर आसमान में जाते देखा , तो उन्होंने शिवजी से पूछा कि ये सारे देवता कहाँ जा रहे हैं। शिवजी ने बताया कि दक्ष प्रजापति यज्ञ करा रहे हैं और ये देवता वहीं जा रहे हैं। वे शिवजी से बोलीं कि… Read more