आरती श्री देवनारायण भगवान 
आरती श्री देवनारायण भगवान की आरती करू देव धणी राया,
 मेंहदु भूणा मदन सिंह और कान भइंग के भाया टेर ॥
मालासेरी मथुरा बन गई देव जन्म तहां पाया ।
नन्दमहर के कृष्णचन्द्र जी मालासेरी मे देव कहाया,
सुखा डुंगर हरिया होया मोर मल्हार मचाया,
 सवाईभोज की भक्ति सुधारी मालासेरी मे हर्ष कराया,
 हो नीले असवार नारायण माली में आया,
 पत्थर हर को शीश झुकाया वृक्षां हर्ष मनाया,
 सवाईभोज देमाली दाता फरना जोधपुरिया में आया,
 निशदिन हरि का होता उत्सव मेला भरे है सवाया,
 सुख सम्पति दो बुद्धि चौगुणी मेटो यमका दाया,
 भैरू राम तुम शरणागत चरणकमल चितलाया॥



समस्त भक्त श्री देवनारायण चालिसा का पाठ प्रतिदिन प्रात:काल अवश्य करें ।

गुर्जर इतिहास की जानकारी के लिए ब्लॉग  पढे  :-https://gurjarithas.blogspot.com


सम्पूर्ण कथा जानने के लिएं इस ब्लॉग को FOLLOW जरूर करे...