श्री श्री 1008 भगवान देवनारायण चालीसा
 : : प्रारम्भः :
 दोहा 
ॐ नमो गणपति गुरू , नमो सरस्वती माया 
देव सुयशवर्णन करूँ , कण्ठ विराजोआय
 - चौपाई - 
नमो देव नारायण स्वामी ।घट घट के प्रभु अन्तर्यामी
जगत उजागर सब गुण । सागर देवनारायण नटवर नागर ॥ 
जय जय जय भक्तन हितकारी इच्छा पूरण करो हमारी  
भोग मोक्ष के दाता देवा । निस दिन करूँ आपकी सेवा ॥ 
दे सत पंथ कुपंथ निवारो । किरपा कर भव पार उतारो ॥ 
अधम उधारण नाम तुम्हारा ।भक्त मनोरथ पूरण हारा  
धर कर संत रूप यदुराया । साडू माता को याचन आया ॥
 करत स्नान साडुमाता सुन आई । अपने घर खुद भिक्षा लाई॥
प्रेम विवश ज्यों की त्यों धाई । बिना वस्त्र पहने चली आई  
नग्न देख प्रभु संकुचे मन माई । पीठ फेरली जब यदुराई  
साडूमाता यो वचन उचारा । तुम हो जगत पिता करतारा ॥ 
मैं बालक तुम हो पितु माता । नग्न देख प्रभु क्यो शरमाता ॥ 
सुनत बचन देखा भगवन्ता । बाल बढ़ाय तन ढ़का तुरन्ता  
ले भिक्षा यों कहत मुरारी । मांगहु वर इच्छा अनुसारी ॥

जो तुम स्वामी देना चाहोआप समान पुत्र बक्षाओ ॥
मम समान और कौ भोरी । मैं सुत होहुँ मात हित तोरी ॥
मैं छलने आया था तौही । उलटा छला मात ते मोही ॥
नापा साडुमात को मारण धाया । उसी समय प्रकटे यदुराया ॥
आम्बा निम्बा मरे सिरदारा । जिन्दा करया आप किरतारा ॥
किशना खाती का कोढ़ हटाया । कर दीन्ही कंचन सी काया ॥
प्रकटया जब प्रभु मालासेरी माहीराण नगर सारी थर्राई ॥
मारण विप्र आपको आया  संग आपके भुजंग पाया ॥
दुजा विप्र आया शैताना । बने आप उसी वक्त जवाना ॥
तीजा विप्र आया कर रीसा । वृद्ध रूप धरिया जगदीशा ॥
काल भैरव असुर बड़धारी । वश मे किया आप गिरधारी ॥
मालवा देश माहि गोविन्दा छोछु भाट को किना जिन्दा ॥
धारा नगरी राजा की बाई । पीपलदे शुभ नाम कहाई ॥
ताके कोढ़ नशाये आपा । अखिंया खोली हरे सन्तापा ॥
भुणा जी को लेने ताई । छोछु भाट को जवान बनाया ॥
भुणा जी को कीना वीरा  टुट पड़या जुड़ा जंजीरा ॥
आप धणी देमाली आया । बीला जी का कोढ़ हटाया ॥
वैधा नाथ की धुणी आया । बहु कोढ़िन का कोढ़ हटायाद ॥
जैतु का सब संकट मेटा । इच्छा पुरी दीन्हा बेटा ॥
लाला था इक जात बलाई । उसकी आप दो देह बनाई ॥
 दीनो के रक्षक कहलाओ म्हारे ताई क्यो शरमाओ ॥
आशा पूरण करो हमारी । अरजी सुणयो बेग मुरारी ॥
मनोकामना पूरण किज्यो । अष्ट सिद्धि नव निधि दीज्यो ॥
कई मोहि मारे तानालज्जा तुम राखो भगवाना ॥
हंसी जो मेरी करवासी । उध्द बिड़द आपकी जासी ॥
 आप हमारे गुरू पितु माता  आप ही मित्र द्रव धाता ॥
आप कृपा बुद्धि बल पाऊँ । दाता तुम कह जाचन जाऊँ ॥
जय जय जय भुणा जी के भ्राता । कुमति निवारो सुमति दाता॥
 दुष्टो को अब बेग खपाओ । धर्म ध्वजा जग में फहराओ ॥

-:दोहा:-
चालिसा यह प्रेम से जो नित पढ़े प्रभाता ।
मनोकामना पूरसी श्रीदेमाली नाथ ॥
तन - मन से शनिवार को पाठ करें चालिस ॥
भैरूराम सब मिटे सुख हो विश्वा बीस ॥



गुर्जर इतिहास की जानकारी के लिए ब्लॉग  पढे  :-https://gurjarithas.blogspot.com


सम्पूर्ण कथा जानने के लिएं इस ब्लॉग को FOLLOW जरूर करे...